Big Bharat-Hindi News

बदायू: चूहे की हत्या के मामले में युवक को किया गया गिरफ्तार, मृत चूहे को पोस्टमॉर्टम कराया गया, 7 दिन में आएगी रिपोर्ट

बदायू में चूहे को पानी में डूबो कर हत्या का  मामले में आरोपी युवक को गिरफ्तार किया गया। चूहे के शव को बदायूं से बरेली तक AC गाड़ी में ले जाया गया, जिसका किराया 1500 रुपए लगा, साथ ही  IVRI में 225 रुपए की रसीद भी काटी गई। 

उत्तर प्रदेश: यूपी के बदायूं में चूहे को पानी में डूबो कर हत्या का  मामला सामने आया है। हत्या करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। यही नहीं चूहे के शव का बरेली IVRI में पोस्टमॉर्टम किया गया जिसका  7 दिन बाद पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आएगी। बताया जा रहा है चूहे के शव को बदायूं से बरेली तक AC गाड़ी में ले जाया गया, जिसका किराया 1500 रुपए लगा, साथ ही  IVRI में 225 रुपए की रसीद भी काटी गई।

पूरा मामला मामला सदर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला पनवड़िया का है। आरोपी के खिलाफ यह शिकायत बदायू के मोहल्ला निवासी और पशु प्रेमी विकेन्द्र शर्मा  द्वारा की गई। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा कि एक  युवक चूहे को नाले में डूबा रहा था। रोकने पर उसने उसको नाले में फेंक दिया। फिर बार-बार वह ऐसा करता रहा, जिससे चूहा मर गया। जिसके विकेन्द्र की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी मनोज के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया।

Big Bharat  ट्वीटर को फॉलो करे

मना करने के बाद भी चूहे को नाले में फेंक दिया

दरअसल एक सिरफिरा शख्स मनोज सड़क किनारे पुलिया पर कुछ बच्चे के साथ बैठा था और उसने एक चूहे को पकड़कर उसकी पूंछ में पत्थर बांधकर नाले में डूबो रहा था। उसी दौरान वहां से  गुजर रहे पशु प्रेमी विक्रेंद शर्मा ने उसे ऐसा करने से मना किया। लेकिन उसके मना  करने पर भी  सिरफिरे ने चूहे को नाले में फेंक दिया। विकेंद्र का कहना है कि उस समय चूहा जिंदा था।

इसके बाद विकेंद्र जैसे-तैसे उस चूहे को नाले से निकाला। लेकिन तब तक चूहे की मौत हो चुकी थी।  ये देखकर विकेंद्र को काफी गुस्सा आया। उन्होंने आरोपी का नाम पूछा। उसने नाम बताया मनोज कुमार। और कहा कि मैं तो ऐसे ही मारता हूं और मारता रहूंगा, जो करना हो कर लो।

बेतिया: एक शराबी  पुलिस के पैर पकड़कर छोड़ने की मिन्नतें करता रहा , लेकिन पुलिस ने भेजा जेल,

पोस्टमॉर्टम के लिए 1500 का AC  कार  की

जिसके बाद विकेंद्र मृत चूहे को लेकर थाने पहुंचे और मनोज कुमार के खिलाफ लिखित शिकायत की और पशु क्रूरता अधिनियम के तहत आरोपी पर कार्रवाई की मांग की। विकेंद्र ने बताया, मामला पशु क्रूरता अधिनियम से जुड़ा था। ऐसे में चूहे का पोस्टमॉर्टम होना भी जरूरी था। मैं चूहे को लेकर बदायूं के पशु चिकित्सालय में पोस्टमॉर्टम कराने के लिए 1500 रूपए कि AC  कार की ताकि सकी बॉडी डी-कंपोज न होने पाए। फिर IVRI में भी सरकारी रसीद 225 की कटी, जिसका भुगतान मैंने अपने पास से किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *