Big Bharat-Hindi News

पापा कभी गलती हो जाये तो क्या माफ़ नही किया जा सकता? 8वी वर्ग के एक बच्चे ने लिखा सुसाइड नोट,

मध्य प्रदेश:  सीधी जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय में आठवीं वर्ग में पढ़ रहे अमित प्रजापति ने अपने घर पर 2 जनवरी को फांसी लगा ली और अपने पीछे सवाल छोड़ गया। फांसी लगाने से पहले पिता के नाम चिट्ठी लिखी। जिसमे उसने सवाल किया किया की पापा कभी गलती हो जाए तो माफ नही किया जा सकता? साथ ही अपने शिक्षक अजीत पांडे को गिरफ्तार करने की बात कही है।

बात दरअसल है की अमित स्कूल में पढ़ने वाले दूसरे छात्र का सामान चुरा लिया था। जिसके बाद छात्र ने टीचर से शिकायत कर दी। शिकायत पर टीचर ने जब अमित के पास से चुराया हुआ सामान बरामद किया तो शिक्षक ने 19 दिसंबर को खूब बैज्जत किया।

Big Bharat  ट्विटर को फॉलो करे

वही दूसरे दिन टीचर ने चोरी की बात अमित के माता पिता को बता दिया। अमित के मां ने खूब समझाया लेकिन अमित शिक्षक द्वारा की गई बैज्जती को भूल नहीं पा रहा था। जिससे अमित बहुत ज्यादा तनाव में था। जिसकी वजह से अमित ने आत्महत्या कर ली।

आत्महत्या से पहले अमित ने चिट्ठी लिखी और चिट्ठी में लिखा था –

प्रणाम पिताजी, मेरे को पता है कि आप को बहुत दुख होगा । मैंने यह रास्ता इसलिए अपनाया क्योंकि मैं अंदर से बहुत गंदा हो चुका था। मैं अपनी गंदी आदतों को नहीं छोड़ा पाया। मुझे बहुत ज्यादा स्ट्रेस हो गया था। मुझे बार-बार अपने सर ( अजीत पांडे) की बात याद आ रही थी। अच्छा एक बात बताइए कभी गलती हो जाए तो क्या माफ नहीं किया जा सकता। मुझे ऐसा लगता है कि गलती माफ की जा सकती है।

मैंने यह सब अपने सर अजीत पांडे के कहने पर किया । उस दिन मुझसे गलती हो गई थी। उन्होंने मुझे बहुत गंदी गंदी गाली दी थी। सभी लड़कों को नीचे भेज कर मुझे बहुत बुरा भला कहा। मम्मी पापा को भिखारी और भी बहुत बुरा भला कहा था। कहा की जाओ जहर खा के मर या जाकर कहीं फांसी लगा ले।

बक्सर में सीएम नीतीश कुमार ने बिहार को विशेष राज्य के दर्जे की मांग पर कहा – केंद्र सरकार हठधर्मिता छोड़े

मेरे भाई ने हमेशा मुझे सही रास्ता दिखाया। भाई ने मुझे हमेशा अच्छा ही समझाया। मेरी मां भी बहुत भोली है। मेरी गलती के बाद भी उसने मुझे कहा कि गलती तो सबसे हो जाती है। तुम अपना मन खराब मत करो। मेरे बाद पिताजी आप कभी शराब मत पीना।

अजीत पांडे ने ना जाने कितनों की जिंदगी बर्बाद कर दी। उसे गिरफ्तार करवा दीजिएगा। प्रिंसिपल और मेरे दोस्त आदित्य, अंशुल, सचिन को भी खबर पहुंचा दीजिएगा। मुझे माफ कर देना पापा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *