Big Bharat-Hindi News

अच्छी खबर: बच्चो के वेक्सीन के लिए भारत बायोटेक को मिली ट्रायल की मंजूरी, अब बच्चो को लगेगी कोरोना वेक्सीन!

नई दिल्ली: 18 से ऊपर के चल रहे  टीकाकरण के बीच, भारत बायोटेक को मंगलवार को 2 से  18 वर्ष की आयु के बच्चों पर फेज-2 और फेज -3  के क्लिनिकल  ​​परीक्षण के लिए अपने COVID-19 वैक्सीन ‘कोवाक्सिन’ भेजने के लिए एक विशेषज्ञ पैनल द्वारा सिफारिश की गई थी, जिसकी मंजूरी मिल गयी है । युवा  आबादी को टीका लगाने की मंजूरी एक बड़ी सफलता है  क्योंकि इसका मतलब होगा स्कूलों और सामान्य कक्षाओं को फिर से खोलना।

यह भी पढ़े:पप्पू यादव के बेटे हुए भावुक, कहा- बदला और राजनीतिक खेल मेरे पापा के जीवन की कीमत पर नहीं

किया गया विचार- विमर्श

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) के सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी  (SEC) ने COVID-19 पर  हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक के आवेदन पर विचार-विमर्श किया ताकि 2 से 18 वर्षो के बच्चो को वेक्सीन हेतु  सुरक्षा का मूल्यांकन करने के लिए फेज 2 / 3 का  क्लिनिकल  ​​परीक्षणों का संचालन करने की अनुमति मिल सके।

पहले फेज़ 2 का पूरा डाटा उपलब्ध कराना होगा

अधिकारियों ने कहा कि यह परीक्षण विभिन्न स्थानों पर 525 लोगो में किया जायेगा , जिनमें एम्स, दिल्ली, एम्स, पटना और मेडिट्रिना इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज(MIMS) नागपुर शामिल हैं। कमेटी की सिफारिशों के मुताबिक, भारत बायोटेक को फेज़ 3 का ट्रायल शुरू करने से पहले फेज़ 2 का पूरा डाटा उपलब्ध कराना होगा।

यह भी पढ़े: पप्पू यादव की पत्नी ने कहा- उनकी जान को खतरा है , बड़े साजिश की आशंका जाहिर की, सरकार गिरफ़्तारी के नाम पर कर रही षड्यंत्र

SEC ने सिफारिश की थी कि भारत बायाटेक की कोवैक्सीन के फेज़ 2, फेज़ 3 के क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी दे देनी चाहिए, जो कि 2 से 18 साल तक के बच्चों पर किया जाएगा। आपको बता दें कि भारत में अभी जिन दो वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है, वह सिर्फ 18 साल से अधिक उम्र वाले लोगों को ही टीका लगाया जा रहा है. भारत में सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड, भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को लोगों को लगाया जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *