सरकार और किसानों के बीच वार्ता 30 दिसंबर को होगी: इन मुद्दों पर चर्चा की जाएगी

कृषि कानून के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन के 33 वे दिन भी जारी रहा। किसान और सरकार दोनों अपनी अपनी बात मनवाने के लिए छ दौरे की वार्ता कर चुके हैं। वही सातवें दौर की वार्ता 29 दिसंबर को होनी थी लेकिन सरकार की तरफ से किसानों को एक पत्र गया जिसमें किसानों से 30 दिसंबर को बैठक करने का अनुरोध किया है। इससे पहले किसान संगठन ने रविवार को एलान किया की जब तक सरकार उनकी मांगे पूरी नहीं होती है हरियाणा के सभी टोल फ्री करेंगे। वही पंजाब किसानो ने 1411 मोबाइल टावरों के कनेक्शन भी काट दिए है। आज भी किसान आंदोलन के चलते दिल्ली की कई सीमाएं और रास्ते बंद थे।

इस तरह किसान नेताओं और सरकार के बीच बैठक मंगलवार की बजाय बुधवार को होगी। सरकार के द्वारा भेजे हुए पत्र में कहा गया है कि “इस बैठक में आपके द्वारा भेजे गए विवरण के अनुसार तीनों कृषि कानूनों एवं एमएसपी की खरीद व्यवस्था के साथ राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और आसपास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्त्ता प्रबंधन के लिए आयोग अध्यादेश, 2020 एवं विद्युत संशोधन विधेयक, 2020 किसानों से संबंधित मुद्दों पर विशेष रूप से चर्चा की जाएगी।

सरकार ने भेजे गए पत्र में कहा है कि जिस तरह किसान संगठन खुले मन से चर्चा करने के लिए हमेशा तैयार रहे हैं और रहेंगे। सरकार भी साफ नियत तथा खुले मन से प्रसांगिक मुद्दों पर तर्कपूर्ण समाधान करने के लिए प्रतिबद्ध है। सरकार ने किसानों से कहा है कि वे 30 दिसंबर को विज्ञान भवन आए और बैठक करके समाधान निकालने की कोशिश करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.