Sidhu Moose Wala सिद्धू मुसेवाला : एक फेमस सिंगर, AK-47 विवाद को लेकर केस दर्ज

पंजाब: Sidhu Moose Wala  सिद्धू मुसेवाला ने गायकी के क्षेत्र में प्रसिद्धी तो हासिल की, लेकिन इसके साथ हो विवादों के साथ भी उनका नाता जुड़ा रहा। कई मामलों में तो उन्हें माफी भी मांगनी पड़ी।

सितंबर, 2019 में मूसेवाला के गाने जड़ी ज्यूणे मौड़ दी बंदूक वरगी पर काफी विवाद हुआ था। इसमें उन्होंने माई भागों पर टिप्पणी की थी, जिसका सिख संगठनों ने विरोध किया। उन पर केस भी चला, लेकिन बाद में उन्होंने माफी मांग लो। उनके गाने ‘संजू में वकीलों को लेकर आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया गया तो एडवोकेट सुनील मल्लन ने कोर्ट में याचिका दायर की थी। चंडीगढ़ जिला कोर्ट ने उन्हें नोटिस जारी किया था। मल्लन ने कहा था कि मुसवाला पर बार्डर स्टेट (पंजाब) के युवाओं को गाने के जरिये हिंसा और दंगा के लिए उकसाने का आरोप में भी कार्रवाई होनी चाहिए। मुसेवाला गन कल्चर को बढ़ावा दे रहे थे।

जगत के सितारे करण औजला के साथ विवाद 

कुछ समय पहले पंजाबी संगीत जगत के सितारे करण औजला के साथ भी Sidhu Moose Wala का विवाद हो गया। उनका गायक बब्बू मान के साथ भी विवाद रहा।

लोकप्रिय गीत 

14 दिन पहले आया गीत द लास्ट राइड करने लगा ट्रेंड सिद्धू को युवाओं में खूब लाकप्रियता रही। उनके गीत सुनने वालों की गिनती करोड़ों में है। 2017 में गीत ऊँचियों ने गल्लां तेरे बाद दीया…सो हाई से उन्होंने करियर की शुरुआत की थी। इसके लिए उनको सर्वश्रेष्ठ गीतकार का अवार्ड भी मिल चुका है।

द लास्ट राइड गीत से फैन्स सिद्धू को याद कर रहे है 

मुसेवाला की मौत के बाद उनके आखिरी गीतों में शामिल ‘द लास्ट राइड (अंतिम यात्रा) गीत खूब चर्चा में है।इस गीत को वीडियो दो सप्ताह पहले ही 15 मई को जारी हुई थी। ऐदा उदगा जवानो विच जनाजा बल्लिएं (इसी तरह जवानी में हो उठेगी अर्थी)…के बाल बाले इस गीत को वीडियो पर मूसेवाला के पीछे एक व्यक्ति की चिता जलती और एक कार में नकाब पहने व्यक्ति पीछा करता दिखाई देता है । मुसेवाला की मौत के बाद इसी गीत को बार बार देखा जा रहा है ।

यह भी पढ़े –  (Sidhu Moose Wala Death Route) सिद्धू मूस वाला की गोली मारकर हत्या: पंजाब के सीएम राहुल, प्रियंका ने निधन पर शोक व्यक्त किया

AK-47 विवाद 

इंटरनेट मीडिया पर वायरल एक विडिओ में इन्होने AK-47 के साथ गोलियां चलते दिखाई देते है । इस विडिओ में  उनके साथ कुछ पुलिस अधिकारी भी दिखाई देते है । इसके बाद मुसेवाला के खिलाफ केस दर्ज किया गया । बाद में वह बरी हो गए ।

विधानसभा चुनाव से की थी राजनीति में एंट्री

मुसेवाला के परिवार ने 2018 में गांव मूसा की सरपंची से राजनीतिक सफर को शुरुआत की। उनकी मां चरणजीत कौर गांव की सरपंच बनी मूसेवाला ने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के जरिए सियासत में एंट्री की थी। यह तीन दिसंबर, 2021 को कांग्रेस में शामिल हुए। उनको दिल्ली में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी में शामिल कराया था। इस दौरान प्रदेश कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू भी मौजूद थे। पार्टी ने उन्हें 2022 के विधानसभा चुनाव में मानसा से टिकट दिया, लेकिन वह हार गए। स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने उनको टिकट देने का विरोध किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.