World Press Freedom Index: प्रेस की आजादी मामले में भारत की स्थिति लगातार ख़राब, भारत की रैंकिंग 8 पायदान नीचे लुढ़ककर 150 वे स्थान पर पहुंची

World:  प्रेस की स्वतंत्रता के मामले में भारत की स्थिति लगातार ख़राब होती जा रही है। भारत की रैंकिंग 2016 में 133 से  गिरकर 2021 में 142 हो गयी थी। जो अब  8 पायदान और नीचे लुढ़ककर 150 वे स्थान पर आ गयी है।  मंगलवार को जारी एक वैश्विक मीडिया प्रहरी की एक रिपोर्ट के अनुसार, world press freedom Index  में भारत की रैंकिंग पिछले साल के 180 देशों में से 142वें स्थान से गिरकर 150वें स्थान पर आ गई है।

नेपाल 30 अंक ऊपर चढ़कर  76वें स्थान पर

रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स द्वारा जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि नेपाल को छोड़कर भारत के अन्य  पडोसी देशो  की रैंकिंग में भी गिरावट आई है, जिसमें पाकिस्तान को 157वें, श्रीलंका को 146वें, बांग्लादेश को 162वें और म्यांमार को 176वें स्थान पर रखा गया है। वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स के अनुसार, नेपाल वैश्विक रैंकिंग में 76वें स्थान पर 30 अंक ऊपर चढ़ गया है।

ये भी पढ़े: राहुल गांधी के पार्टी के वीडियो वायरल पर बीजेपी नेता ने कसा तंज, कांग्रेस ने भी सफाई देते हुए मोदी पर साधा निशाना

अंतरराष्ट्रीय गैर-लाभकारी संगठन ने अपनी वेबसाइट के जरिये बताया है , “विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस पर, रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स और नौ अन्य मानवाधिकार संगठन भारतीय अधिकारियों से पत्रकारों और ऑनलाइन आलोचकों को उनके काम के लिए निशाना बनाना बंद करने के लिए कहा है । विशेष रूप से, उन्हें आतंकवाद और देशद्रोह कानूनों के तहत उन पर मुकदमा चलाना बंद कर देना चाहिए।”

स्वतंत्र मीडिया का गला घोंटना बंद करना चाहिए

रिपोर्टर्स सेन्स फ्रंटियर्स (RSF) ने कहा कि भारतीय अधिकारियों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार का सम्मान करना चाहिए और आलोचनात्मक रिपोर्टिंग के लिए कथित या राजनीति से प्रेरित आरोपों में हिरासत में लिए गए किसी भी पत्रकार को रिहा करना चाहिए और उन्हें निशाना बनाना और स्वतंत्र मीडिया का गला घोंटना बंद करना चाहिए।

ये भी पढ़े: नोएडा में बार के कर्मचारियों द्वारा पीटे जाने से एक व्यक्ति की मौत, पुलिस ने सात लोगो को किया गिरफ्तार

भारतीय महिला प्रेस कोर, प्रेस क्लब ऑफ इंडिया और प्रेस एसोसिएशन ने कहा, “पत्रकारों को कमजोर कारणों से कठोर कानूनों के तहत कैद किया गया है और कुछ मौकों पर सोशल मीडिया स्पेस में कानून के स्वयंभू संरक्षकों से उनके जीवन के लिए खतरे का सामना करना पड़ा है।”

यह देखते हुए कि प्रेस की स्वतंत्रता एक जीवंत लोकतंत्र के कामकाज का अभिन्न अंग है, उन्होंने कहा कि मीडिया को “इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए अपनी भूमिका को पुनः प्राप्त करने के लिए” एक साथ आना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.